Learn Punctuation Mark : Quotation mark .

 Learn Punctuation Mark : Quotation mark 


सिंपल शब्दों में - 

किसी की कही गयी बातों को Quotation mark  के अंदर लिखा जाता है। हिंदी में इसे उद्धरण चिन्ह कहते हैं। इसके लिखने का तरीका कुछ इस तरह से है -

The things said by someone are written inside the quotation mark. The way of writing it is like this -

वाक्य के शुरुवात में ( “ ) मार्क का प्रयोग किया जाता है जबकि वाक्य के अंत में ( ” ) मार्क का प्रयोग किया जाता है। 


( “ )  mark is used at the beginning of the sentence whereas ( ” ) mark is used at the end of the sentence.


इसे अक्सर Double Quotation Mark भी कहा जाता है। 


Rules for Quotation Mark Use :-

👉 जब भी कोई  वाक्य Quotation Mark के भीतर शुरू होता है तब हमेशा Capital Letter का उपयोग करें | भले ही Quotation Mark वाक्य के बिच से शुरू हो, तब भी कोई फर्क नहीं पड़ता है।

Example :-

"I wonder if you will stay " he said.

Martin said , "It is still very cold out there".



👉 किसी भी कथन ( Quote ) या वाक्य जो किसी विशेष द्वारा कहा गया हो उसे हमेशा Double Quotation Mark के अंदर लिखा जाता है।

Example :-

            "There is no substitute for hard work." 
                                                        By Thomas Edison


"Don't compare yourself with anyone in this world. If you do this, you are insulting yourself."
                                                                                                            By Bill Gates





👉 Quotation mark की शुरुवात करने से पहले वाक्य को बाधित करने के लिए Commas ( ,) का प्रयोग किया जाता है। 

Example :-

He said, “I really don’t want to know anything about it.”

He said, “Enough.”



More Examples :-

He Said , "Do you want to stay "?

Melisha told me , " Your are the best ".

"This is a new car," Jeff explained.

She said, "Come home."

Did you read the article "Building Vocabulary"?

The first chapter in the book is "The Tall Tree."

Post a Comment

Previous Post Next Post